मेरी आत्म-कत्थ

0
314

में दीआ आं !
बलदा रौह्‌न्नां
मजारैं, मढ़ियैं,शिवालें च
गरीबड़ें दी बस्ती च
कुसै शायर दे ख्यालें च
कुसै बजोगनै दी
हीखी, मेदें,आसें च
कुसै अंबडी दे सुआसें च

होरनें गी
करदा रौह्‌न्नां चानन
मगर
अपने हेठ न्हेरा !

बलने आह्‌ले दी
बस्स, इ’यै होंदी ऐ आत्म-कत्थ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here