मेरी डोगरी

0
128

मेरी डोगरी, मेरी डोगरी
मेरी ज़िंदगी, मेरी ज़िंदगी,
मेरा इश्क ऐ, मेरी आशकी
मेरी डोगरी, मेरी डोगरी ।

मेरी आत्मा, मेरी चेतना
चिंतन ,मेरी संवेदना
तुगी बोलना, तुगी सोचना,
तेरा बोल बोल सनोचना
देई मान ते सम्मान मीं
मेरा सिर उच्चा करी ओड़दी
मेरी डोगरी, मेरी डोगरी ।

मेरा साह् ऐं तूं, उत्साह् ऐं तूं
मेरा जीन ऐं तूं, हैं जनून तूं
तूं ऐं सजरी धुप्प ते लो मेरी
कदें खां निं झूठी में सोह् तेरी
तुगी नेईं बसारां में इक घड़ी
मेरी डोगरी, मेरी डोगरी ।

तुगी साधना करी साधेआ
अभिव्यक्तियें गी अराधेआ
अनुभूतियें गी खंघालेआ
गीतें च, गज़लें च ढालेआ
मेरे अक्खरें गी देई जीवादान
मेरे भावें गी तूं बझालेआ
मेरी सोच तेरी गै गोचरी
मेरी डोगरी , मेरी डोगरी ।

मेरा रोम-रोम हा सक्खना
मेरे साहें इच ही वेदना
तुगी पूजेआ करी पूजना
तुगी बंदेआ करी वंदना
तेरी मेह्‌र होने दी देर ही
होई अक्खरें दी सिरजना
मीं बंझै गी शंगारियै
तूं बनाया ओठें दी बौंसरी
मेरी डोगरी, मेरी डोगरी ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here