मेरी दुविधा

0
366

अजकल्ल में दुविधा च फसेआ
आपमुहारे आपूं हस्सेआ
कंडा चुभदा पैरे गी छ्‌होंदा
चानक गै उई की होंदा?

कुधरै बिपता भारी बनदी
दुखड़ें दी ऐ बदली कणदी
नैनें दा नेईं हाड़ थम्होंदा
अब्बरें अत्थरूं माह्‌नू रोंदा
चानक गै उई की होंदा?

जिगरी जद कोई करै विदाई
सत्था माह्‌नू होऐ शदाई
नजरें किश बी नजर निं औंदा
सुद्धा एह् बरलाप ऐ पांदा
चानक गै उई की होंदा?

धी-रानी जद सौह्‌रै जंदी
माएं दी आंदर बाह्‌र खचोंदी
बापू दा जिगरा ऐ ढौंदा
बीरें दा चित्त नेईं समल्होंदा
चानक गै उई की होंदा?

चाएं-मल्हारैं लाड़ा सजदा
घरै च ढोल-ढमाक्का बजदा
जेकर बिंद क्लेश ऐ पौंदा
खुशियें दा गला घटोंदा
चानक गै उई की होंदा?

एह् संसारी दुख-सुख ऐसा
सब थाह्‌रैं रौंह्‌दा इक जैसा
इकसारी सांझ ऐ पलदी
फ्ही बक्खरी कु’त्थुं आई ढलदी
पीड़ कोई नेईं औंदी बाह्‌रा
अत्थरुएं दा अंदर थाह्‌रा
खुशी सनोचै, हर तन हस्सै
दुख बी उस्सै थाह्‌रै बस्सै
ढोल-ढमाक्के पांदे गर्जन
बिछड़न यार तां जिगरे लरजन
धी बरधै इक डोर त्रुटदी
चिंड कलेजे अंदर उठदी
मिलन, बजोग ते पीड़ां-हास्से
जन-जन अंदर इक्कै जैसे
इं’दा धर्म ते जात नेईं कोई
इं’दा देश, जमात निं कोई
एह् सींह् मां दे ब’न्न त्रोड़न
हर हिरदे च आई बौढ़न
नेईं पांदे एह् छिंडे दूरी
इं’दा धर्म ते इक्कै नूरी
फ्ही एह् फर्को-फर्की कैह्‌दी
की अस धर्म ते जात दे कैद्दी
कुदरत दे सुआतम गी जान्नो
मानस इक्कै जात, पछानो
जित्थै एह् गल्ल नेइयों भांदी
उत्थै कुदरत कैह्‌र बर्‌हांदी
बड्ढ-टुक्क फ्ही कुसदी होंदी
मेरी गै फ्ही सब जात बढोंदी

की आं फ्ही अस पेचैं पेदे
कोल ढुको हां, झगड़े कैह्‌दे
बस्स एह् गल्ल निं समझै कोई
इस कारण में गेआं बतोई
तांकर गल-गल चिक्कड़ धसेआ
तां में गैहरी दुविधा च फसेआ
कोई तां इस चा कड्ढो यारो
छंदे , हाड़ै पार तुआरो !
छंदे, हाड़ै पार तुआरो !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here