मेरे मालका

0
389

कुदरत दे कैह्‌रा हेठ दबोई कुल दुनिया
कोई दस्स मालका रस्ता, विपता टाली दे
देओ सबस गी स्हारा र’वै कोई कल्ला नेईं
ढट्ठै नेईं जिगरा, मेदें दा दिया बाली दे
कुदरत दे कैह्‌रा हेठ दबोई कुल दुनिया
कोई दस्स मालका रस्ता, विपता टाली दे।

काले बद्दल ओचन छाए
सब माहनू अंदर दड़ी गे
किश ऐसी जैह्‌री हवा चली
पतर पे पीले, झडी़ गे
असें मेद, ब्हार फ्ही औनी ऐ
बड्डे डाह्‌ल्लै पींह्‌ग बी पौनी ऐ
जिं’दे डुक्कै साढ़े मूंह् पक्कने
किश बूर-पत्तर उस डाह्‌ल्ली दे
कुदरत दे कैह्‌रा हेठ दबोई कुल दुनिया
कोई दस्स मालका रस्ता, विपता टाली दे

इस म्हामारी गी दब्बी देओ
कुसै डूंह्‌गे न्हेरे खोले इच
माह्‌नू जकड़ोई गेदा ऐ
किश निक्के-बड्डे गोलें इच
करलांदी सुनसान चबक्खै,
चढ़े मुंहै डरू मर्‌हक्खे
सु’ट्ट दड़ाबड़ रैह्‌मत दी
एह् सारे टैंटे जाली दे
कुदरत दे कैह्‌रा हेठ दबोई कुल दुनिया
कोई दस्स मालका रस्ता, विपता टाली दे

इ’यै नेह् समैं गै होंदी
पन्छान पवित्र रूहें दी
दुख-दर्द उं’दे सब हरी लैओ
जेह्‌ड़े पीड़ पछानन दुएं दी
अग्गें रेहियै लड़दे जो लाम
रक्खी जि’नें मनुक्खता हरिकाम
घुला करदे सब योद्धें गी
तूं सांझी बड्डी माल्ली दे
कुदरत दे कैह्‌रा हेठ दबोई कुल दुनिया
कोई दस्स मालका रस्ता, विपता टाली दे ।

रीझैं सजाई हत्थैं धरतरी क्यारी
सुक्की निं जान फुल्ल किरपा दा सूह्‌टा कड्ढेओ
आड़-बन्ना देइयै सोआरे पैली-खुंबे अप्पू
करेओ सम्हाल, शामलाट नेईं छड्डेओ
होई जान रौंसले खेतर सारे
सब्जा चादर बिछी जा धारें
हिरखी खुरपे नै बल्लै क
घा-बूट जर्‌हीला ताली दे
कुदरत दे कैह्‌रा हेठ दबोई कुल दुनिया
कोई दस्स मालका रस्ता, विपता टाली दे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here