शलैपे दा ऐंत

0
337

जिसलै बी कोई ध्रूकियै फुल्ल खुआंटा दा होंदा ऐ
तां उसलै
इक शलैपे दी हीखी त्रूण जंदी ऐ

दरअसल ओह् बे-कदरा उसलै
सोह्‌ल फुल्ल नेईं त्रोड़ै दा होंदा
कुंगले शलैपे गी मरोड़ा दा होंदा ऐ

इस शलैपे दी मौत करी
मरदे न हक्क केइयें दे

इस शलैपे पर –
तितलियें डेरे लाने हे
भौरें बी गेड़े पाने हे
कुसै कवियै शब्द गुत्थने हे
कुसै चतेरे ने रंग लुद्दने हे

ओ फुल्ला !
तुगी बी हा हक्क मड़ा
अपना जीन जीने दा
अपनी खुदी दे
जोवन रस पीने दा

अहा!
शलैपा तेरा
खिड़ी-खिड़ी माग्घे पांदा
जि’यां ञ्याणा कोई
अपने रौंऽ च
आपमुहारै मुस्कांदा

तेरी सोह् !
तेरी खशबोऽ
इतर डोह्‌ल्लै
मन आशकें दा डोल्लै

में सोच्चनां –
खूबसूरती दा डन्न
क्या इ’यै होंदा ऐ
क्या हर शलैपे दा ऐंत
इ’यां गै होंदा ऐ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here