शारे

0
151

एह् वक़्त दे
शारिये न ‘सूफी’
जो शारें-शारें
शारे करा दे
ना तेरी समझा
ना मेरी समझा
गल्लां जि’यां न
तारे करा दे ।

भ्यागा दी रिश्में
दे उग्गने शा पैह्‌लें
चिड़ियें दे दाने
चुगने शा पैह्‌लें
गासै दे झिलमिल
छाएबानै दे थल्लै
मदानै दे उप्परें
चगानै दे ख’ल्लें
केईं सारतें ते
बुझारतें दे कन्नै
केईं मिट्ठी- मिट्ठियें
शरारतें दे कन्नै
कुदरत दी पोथी
फंघैं फरोली
जीवन दी धारा
संगीत घोली
अनलिखी अबारतें दे
पूरनें दी भांति
कुसै जुआन शीतल
राती दी सांती
जुगनु न अश्कै
बारे भरा दे
ना तेरी समझा
ना मेरी समझा
गल्लां न जि’यां
तारे करा दे
एह् वक़्त दे
शारिये न ‘सूफी’
जो शारें-शारें
शारे करा दे।

सुस्सरु चट्टा करदा
आयु दी वीण अश्कै
सोच-सोच जि’यां
सिनकु च लीन अश्कै
जीवन खड्ढिया दी
तार-तार ढिल्ली
प्रीत बस्तिया दी
थाह्‌र-थाह्‌र सि’ल्ली
रिश्तें दे काफले न
ग’लियें ,बजारें , चौकें
हद्दां ते फासले न
भावें , बचारें, सोचें
महाभारती पात्तरें दे
करियै शंगार परती
महाकाव्य रचा करदी
सदियें परानी धरती
पीड़ें दे हाशियें च
ब’रकें खलारी वेदन
जे,बेअदबी अदब आह्‌ले
कोई नाद छेड़न
बो बेअमले साधकें दी
साधना दे सदकै
तगमें दे रीसो-रीसी
हुट्टे, भटके-भटके
जो कवता -क्हानी
बचारे करा दे
ना तेरी समझा
ना मेरी समझा
गल्लां न जि’यां
तारे करा दे,
एह् वक़्त दे
शारिये न ‘सूफी’
जो शारें-शारें
शारे करा दे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here