शिकल दपैह्‌र

0
136

शिकल दपैह्‌र
रस्ता सुन्ना
सुन्न-मसुन्ना।
अक्क चढ़े दा दौनें पास्सैं
बर्‌हैंकड़ किश कंडेआरी बी
पक्के पैरें आं उस राह्
जित्थें नेईं तेरे कन्नै बाह्
लेइयै सारा दमखम अपना
उ’ऐ तेज-तरार सुभाऽ
अग्गैं बधनी पिच्छैं छोड़ी
तेरी प्रीतै आह्‌ली डोरी।

शिकल दपैह्‌र
रस्ता सुन्ना
सुन्न-मसुन्ना
रस्ता बी ऐ उब्ब-खड़ुब्बा
जन्नी-खैंखर तांह्-तोआंह्
ना झरना, ना नाड़ू छल-छल
ना मिठ्ठियें नदियें दी कल-कल
पर इत्थें ऐ इज्ज़त-मान
अपनी दुनिया, अपना ज्हान
उस राह् कि’यां टुरदी में
जिस राह् हे बस तूं ते में।

शिकल दपैह्‌र
रस्ता सुन्ना
सुन्न-मसुन्ना।
पिंजरे शा उड्डे दा पैंछी
गासै दे बस्तार शा डरियै
आई बौंह्‌दा स’ञ घरोंदी दिक्खी
फ्ही अपने उस्सै पिंजरे इच
थक्की-हुट्टी परती आई
पैर फकोंदे दिक्खी अपने
भरम-भलेखे त्रुट्टे छेकड़
सच्चाई दी ठोस ज़िमीं पर

शिकल दपैह्‌र
रस्ता सुन्ना
सुन्न-मसुन्ना
हिरखी गीतें बेधी दित्ता
गेल्ली ट्हैकी फुल्लें कन्नै
इक टुंडै पर पौंगर पेई
बेब्हारी किश बनकै नेईं
गज़लां तेरियां सब्भै नज़्मां
तुगी मुबारक तेरियां बज़्मां
जीवन दी त्रकाल संध्या
घलदी-बलदी जा दी रूह
टुरदी अग्गैं, दिखदी पिच्छैं
शिकल दपैह्‌र
रस्ता सुन्ना
सुन्न-मसुन्ना।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here