सागर दी मैह्‌मा

0
438

शरणागत वत्सल दे लक्खन
दस्सन सागरा तेरा बड़प्पन
उप्परा ढलदे डिगदे -ढौंदे
हाड़ें ब्हान्नै रोंदे-धोंदे
झरने, दरेआ, नदियां, नाले
त्राही माम् दे मारन आले
तूं अपनाएं ब्हामां खोह्ल्ली
सुआगत-सुआगत गर्जी बोल्ली
जिसलै एह् सब तेरै ढट्ठन
दस्सन सागरा तेरा बड़प्पन ।

मिली तेरे बिच मिलदा स्हारा
तेरे बिन निं हारा -न्यारा
जन-गण-मन तूहैं अधिनायक
रूप बदलदा तूं जलदायक
तूहैं जलाशें बिच फ्ही रब्ब
अंतहीन फ्ही तूहैं बेहद्द
सब तेरै जदूं रस्सन -बस्सन
दस्सन सागरा तेरा बड़प्पन ।

पत्थर,कुप्पड़ दिलै र ब्हालें
ज्हाजें दे अवशेष छपालें
बड़वानल बी तेरै बलदे
ज्हारां-लक्खां जीव बी पलदे
केइयें मछुए बन्नै ब’न्ने
फ्ही बी मर्यादा निं भन्नें
मेद जदूं तेरै सब रक्खन
दस्सन सागरा तेरा बड़प्पन ।

व्हेल, डालफिन , शार्क पालें
सिप्पियां- मोती बाह्‌र छुआलें
पैराग्लाइडिंग करियै हस्सन
तेरी छाती उप्पर नच्चन
परमपिता दा रूप फ्ही फब्बै
बच्चें ई नित्त खढांदा लब्भै
खु’ल्लै भरम दा नेईं ढक्कन
दस्सन सागरा तेरा बड़प्पन ।

युद्ध -पोत रेह् चलदे मिजाइल
ऐटम बंब रेह् करदे घायल
फ्ही बी आंह्दी नेईं सुनामी
दिक्खी बच्चें दी नेईं खामी
नदियें -नालें ई दित्ता स्हारा
बड्डे कीता उंदा दायरा
पूर्व पच्छम उत्तर दक्खन
दस्सन सागरा तेरा बड़प्पन ।

सदियें शा जलस्रोत चलै दे
सारे सागरै बिच ढलै दे
एह् सब नदियें दा विस्तार ऐ
सागर इकदम निराकार ऐ
झटपट-झटपट दौड़ी -दौड़ी
मंजिल लोड़ी-लोड़ी
टुरी-टुरी जदूं हुट्टन -थक्कन
दस्सन सागरा तेरा बड़प्पन ।

अनादि काल शा तेरा बजूद
थाह् नेईं तेरी हद्द -हदूद
ज्हाज किन्ने क होई गे गैब
अंदर तेरै स्काई लैब
रोजी तूं किन्नें दी संभालें
जलचर-थलचर किन्ने पालें
नांऽ जिन्ने फ्ही तेरा जप्पन
दस्सन सागरा तेरा बड़प्पन ।

ब्रह्मा दा तूं रूप बनाएं
जल-जीवें दी सरिश्टी रचाएं
विश्णु बनियै उ’नेंगी पालें
रंग-बरंगे रूपैं ढालें
बनै माह्नू जदूं अत्याचारी
तूं शिव रूप बनें त्रिपुरारी
इत्थुआं उज्जन, इत्थै छप्पन
दस्सन सागरा तेरा बड़प्पन ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here