सुहागरात

0
354

बसैंत चाननी, नायिका पद्‌मनी बनियै अज्ज पसोऐ
सोलां कलां संपूर्ण नायक जि’यां चन्न बझोऐ।

हिरख दौनें गी करदे दिक्खी रात गेई शर्माई
अक्ख निं पुट्टन तारें उप्पर चिट्टी चादर पाई
तां जे नां कोई दिक्खै नां गै हिरख उं’दा नजरोऐ
बसैंत चाननी, नायिका पद्‌मनी बनियै अज्ज पसोऐ ।

कदें कलावे बिच्च चाननी, कदें कलावै चन्न
इश्क होआ पर खबर निं लग्गी कुसै ई कन्नो-कन्न
हिरख निं मुक्कै बंडी-बंडी, कि’यां-कि’यां फ्ही सनोऐ
बसैंत चाननी, नायिका पद्‌मनी बनियै अज्ज पसोऐ ।

डु’ल्ली-डु’ल्ली हिरख पवै दा धरती उप्पर आइयै
बिन बोल्ले दे फुल्ल चबक्खी दिक्खा दे मुस्काइयै
सोचन इ’यै नेहा हिरख फ्ही कि’यां असें ई थ्होऐ
बसैंत चाननी, नायिका पद्‌मनी बनियै अज्ज पसोऐ ।

रात दी रानी कुतै कमलनी ब्हानै खोह्‌ल्लै अंग
कुतै मोतिया नायिका दे अंगें दी बनै सगंध
अपनी-अपनी होश निं, तन्मय इक-दुए च दोऐ
बसैंत चाननी, नायिका पद्‌मनी बनियै अज्ज पसोऐ ।

साहें बिचा खश्बोऽ उड्डरै जिद्धर करै मुहार
सामधाम रति कामदेव दी दिखदे बनै नुहार
मन चांह्‌दा ऐ दस्सना जो, निं शब्दें बिच्च बन्होऐ
बसैंत चाननी, नायिका पद्‌मनी बनियै अज्ज पसोऐ ।

मनै नै होइयां गल्लां, लग्गी कुसै ई नेईं कनसोऽ
गास चबारै इक्कले-मुक्कले बैठे हिरखी दो
नां नायक दी अक्खीं नींदर नां गै नायिका सोऐ
बसैंत चाननी, नायिका पद्मनी बनियै अज्ज पसोऐ ।

नट-नटी साहीं आपूं-बिच्चें ऐसा रिश्ता जोड़न
रिश्में आह्‌ले रस्सें उप्पर सैह्‌ज भाव नै दौड़न
दक्ख जदूं दिल आई खड़ोऐ, दिल निं तदूं खड़ोऐ
बसैंत चाननी, नायिका पद्‌मनी बनियै अज्ज पसोऐ ।

अज्ज सुआगत करने लेई कुदरत ने धरत सजाई ऐ
चन्न-चाननी खुशियें बिच्च सुहागरात अज्ज आई ऐ
फुल्लें-कलियें बेलें रेही-रेही हर इक रुक्ख लदोऐ
बसैंत चाननी, नायिका पद्‌मनी बनियै अज्ज पसोऐ ।

जिन्ने हार त्रुट्टे रातीं जिन्ने चक्कर लग्गे
सब्जे पर सतरंगे मोती इन्ने बडलै लब्भे
सूरज आइयै बल्लें-बल्लें इ’नें ई फ्ही ढोऐ
बसैंत चाननी, नायिका पद्‌मनी बनियै अज्ज पसोऐ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here