सूचना-क्रांति

0
95

“21मीं सदी
सूचना-क्रांति दी “
दम भरी -भरी
ते गला फाड़ी -फाड़ी
केह् किश
निं आखेआ हा तूं

बो अज्ज
केईं म्हीनें शा
तेरा सूचना-तंत्र
पेदा ऐ मोए दा

कोई
लाज बी नेईं करदा
की जे
आखदे न सारे–
तूं गै
दित्ते दा ऐ जैह्‌र ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here