चौथा पहर

0
रात का यह चौथा पहर, राधा के लिये , जैसे ज्येष्ठ- आषाढ़ की शिखर दुपहर । तीन पहर बीत गये काहना के हुए दीदार, रात का  यह चौथा...

रिश्ता

0
बादल बरसा पानी बहा जल-थल एक हुआ धरती ने सहा , अपने सूरज की अमानत मान अपने अंदर भरा। लौटाने की जन्मजात वृत्ति से प्रेरित सृजन में रत्त अपने हृदय से लगा...

संयोग

0
यह संयोग ही तो एक ईज़ाद की मानिंद, कि चैट-रूम में बिना किसी रंग,रूप और शिनाखत के तुम मुझे मिले थे। और मुझे सोचने पर मजबूर कर गया था तुम्हारा...

मेरा चाँद

0
डूबते सूरज से नज़र मिलते ही, इशारा समझते ही , विदा होते सूरज की लाली , उसकी समझ में आ गई । और वह लजाकर , छुईमुई सी शर्मा...

रात दी रानी

0
राती दी बुक्कली च सुत्ती दी कञका दी अक्ख खु'ल्ली कच्छ-कोल अश्कें कुतै अतरै दी शीशी डु'ल्ली । कञका ने माऊ गी पुच्छेआ---- मां ,एह् केह् झुल्लेआ...

Dogra Culture: Knowledge & Beliefs

2
“Duggar Pradesh”; also famously known as Jammu; is the native land of world’s renowned warriors and artists, named “Dogras”. Jammu is the winter capital...

सलक्खनी घड़ी

1
में इक बारी कुंभ न्हौन गेदे, अपनी सुर्ती च पेदे, शब्दें मूजब, जे गंगा गेदे तज्जनी होंदी ऐ कोई सभनें शा प्यारी चीज़, म्हेशा-म्हेशा ताईं ते में तज्जी आई...

शीशा

1
    अजें शीशा मिरा खबरै मिगी गै ओपरा चेतै क में सदिएं गुआचे दा अजें आपा तपाशा नां। मिरे गै नैन बलगा दे अजें मेरे दिदारै गी अजें नेईं सांबेआ अश्कै में...