जीवन-कत्थ

0
376

जीना झूठ, मरना सच्च
लौह्‌की सच्ची तेरी कत्थ।

आई खड़ोना मौतै जिसलै
थर-थर कबंने पुरजे उसलै।

तरले-मिन्नतां नेईं मनोने
बनियै-ठनियै औन परौह्‌ने।

यम्में आइयै पाना घेरा
बेही-खाता दस्सना तेरा ।

होने मसौदे सारे रद्द
फड़ना सिद्धा तेरा हत्थ।

तूं’ऐ चलना बनी सुआरी
भलेआ लोका, होई तेआरी।

छंडना, रोना, तूं करलाना
धीएं-पुत्तरें गल निं लाना।

सुआसें कन्नै जंग लड़ानी
मौतै जित्तनी, तूं हरानी ।

मैह्‌ल-चबारे इत्थै रौह्‌ने
भरे खज़ाने कम्म निं औने।

अपने तेरैं फर्ज नभाना
आपूं पैह्‌ला लाबूं लाना।

मुश्कल होना मोह् छड़ाना
ठोकर लग्गनी फ्ही पछताना।

ठग्गियैं-झूठैं उमर गुआई
मौके सिर निं होई कमाई।

तांइयों जाना औखा होएआ
सब पराया, कैह्‌सी रोएआ?

लौह्‌की तेरी कत्थ बनाई
सोच-बचारी कर कमाई।

उसनै तेरा साथ नभाना
खाल्ली आया, खाल्ली जाना।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here