संदेसा

0
310

सूरज दी रश्में गी घर परतोने दा संदेसा आया
दिना दे गोरे शैल मुंहै पर स’ञै ने परदा सरकाया
सफर मेरा मुक्कने पर आया
मन घबराया

अज्ज बडलै, बल्लै नेह्
सूरज दी रश्में
मेरी सुत्ती दी अक्खें दे भित्त हे ठ्‌होरे
में जागेआ
जागी तांह्‌ग ते सफरै गी टुरी पेआ हा
किन्ने गै रस्ते हे
किश सौखे, किश औखे
इक रस्ता चुनना हा
ओह् चुनेआ
फ्ही उस पर टुरदे रेह्
संगी-साथी मिलदे रेह्, खिंडदे बी रेह्
मंजल लभदी बी रेही, छपदी बी रेही
तांह्‌ग मनै दी जागी-जागी मरदी रेही

मी सेही हा–
सफर मेरा मुक्कना ऐ
सै मुक्कने पर आया
पर इन्ने तौले, इ’यां चानक मुक्कग !
में निं हा सोचेआ

हून इक्कै चिंता ऐ जे
अपने सफरै गी संदली अक्खरें बिच्च मढ़ाइयै
में छोड़ी जां उस राही लेई
जो मेरे रस्ते पर टुरियै औग मेरे तक
जागग जनमें दी पन्छान
होग सफल एह् साध मेरी तद

बधन लगे स’ञै दे छौरे
फुल्लें गी तज्जी गे भौरे
कंबदे हत्थ किश लिखदे जा दे
अक्खें दे भित्त भिड़दे जा दे
मन घबराया
सूरज दी रश्में गी घर परतोने दा संदेसा आया
दिना दे गोरे शैल मुंहै पर स’ञै ने परदा सरकाया
सफर मेरा मुक्कने पर आया, मन घबराया ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here