शलैपे दा ऐंत

0
जिसलै बी कोई ध्रूकियै फुल्ल खुआंटा दा होंदा ऐतां उसलैइक शलैपे दी हीखी त्रूण जंदी ऐ दरअसल ओह् बे-कदरा उसलैसोह्‌ल फुल्ल नेईं त्रोड़ै दा होंदाकुंगले...

फफ्फड़ताली दुनियां

0
चिट्टी चमड़ी मुंहां मिट्ठी, मनै दी काली दुनियां शाबड़ा कठन ऐ होंद बचाना, फफ्फड़ताली दुनियां शा कुसै दी गुड्डी चढ़दी दिक्खी एह् निं मासा जरदी...

गीत

0
सुर्ख दंदासा, नैन नशीलेनाजुक बुल्लियां, बोल रसीलेगभरू सारे अक्खियें कीह्‌लेपांदा खूब धमाल नखरा गोरी दाकरी टकांदा घाल नखरा गोरी दा अक्ख-मटक्कैं खूब नचांदीसज्झर मत्तु करी...
Microsoft Dogri Support

साइबर-एरा च डोगरी : चनौतियां ते अवसर (मौके)

0
सार: प्रस्तुत लेख दा उद्देश्य साइबर-एरा च डोगरी गी दरपेश चनौतियें ते उपलब्ध मौकें दी नशानदेई करना ऐ । इस लेख च संक्षिप्त नेही...

सुना हां दोस्ता

2
    लिछकदा  टोका सुना हां दोस्ता। राग कोई औखा सुना हां दोस्ता। मैं मिरी दी मैं गुआची जा कुतै हादसा ओहका सुना हां दोस्ता। पक्कियें रफ़लें दा रौला बंद...

गज़ल

0
अब्बरै पानी रोइयै दिक्खरत्तियें हौला होइयै दिक्ख । पुल्ले पैरें बल्लें-बल्लेंजा उं’दे कोल बेहियै दिक्ख। घर उं’दै जाना तां पीड़ेमूहों-मूंह् भरोइयै दिक्ख । निक्का नेहा उं’दा दरोआजानीह्‌ठा...

शीशा

1
    अजें शीशा मिरा खबरै मिगी गै ओपरा चेतै क में सदिएं गुआचे दा अजें आपा तपाशा नां। मिरे गै नैन बलगा दे अजें मेरे दिदारै गी अजें नेईं सांबेआ अश्कै में...

गीत

0
होऐ चानन मड़ा हर थाह्‌रखुशियें दे रंग भरी देमचै कदें निं नेहा हा-हाकारखुशियें दे रंग भरी दे । असर ऐ कीता पक्कियें झिड़केंसुन्न-मसान ऐ ग’लियैं-शिड़कैंकुत्तु-बिल्लु...

मेरे मालका

0
कुदरत दे कैह्‌रा हेठ दबोई कुल दुनियाकोई दस्स मालका रस्ता, विपता टाली देदेओ सबस गी स्हारा र’वै कोई कल्ला नेईंढट्ठै नेईं जिगरा, मेदें दा...
234,544FansLike
68,556FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Featured

Most Popular

Dogri : A History & Linguistic Classification

1
Dogri, the second prominent language of J&K State has an important place on the linguistic map of northern India.  It belongs to the Indo-Aryan...

गीत

तपाश

Latest reviews

शिकल दपैह्‌र

1
शिकल दपैह्‌ररस्ता सुन्नासुन्न-मसुन्ना।अक्क चढ़े दा दौनें पास्सैंबर्‌हैंकड़ किश कंडेआरी बीपक्के पैरें आं उस राह्जित्थें नेईं तेरे कन्नै बाह्लेइयै सारा दमखम अपनाउ’ऐ तेज-तरार सुभाऽअग्गैं बधनी...

बाणप्रस्थी

0
सुख-सुवधा सब भोगी ऐठा, जी लेई यरो घ्रिस्तीजोका मेरा चित्त करै दा होई जां बाणप्रस्थी। हुन तांह्‌ग निं बाक़ी रेह् दी, पूरी जेह्‌ड़ी होई नेईंशैल...

पतझड़ दे बाद आई कनेही एह् ब्हार

0
पतझड़ दे बाद आई कनेही एह् ब्हार ऐनिम्मोझान होइयै आखै चिड़ियें दा डोआर ऐ नां कोई रौला-रप्पा, नां कोई झिड़कांसुन्नसान ग’लियां, सुन्नसान शिड़कांनां कोई रोआर...

More News