गज़ल

Phenomenal Growth of Dogri Literature

4
Dogri has a very old tradition of oral literature and there exists a rich treasure, both in content and form, of folk songs, folk...

में उस पीढ़ी दा वारिस

0
मेंउस पीढ़ी दा वारिस आंचढ़दी जान्नी चजिसने अपने साथियें कन्नैलुट्टियां हियांपंजी-दस्सियां जग्गै दी धामा चबस्सइ’यै हियां हीखियांजे दक्खना चकुसलै थ्होङनदुक्की-त्रिक्कियां बड्डे भ्राऊ देचाएं-चाएंपाई लैंदे हे तुआर...

ब्हारां

0
जाड़ैं दिक्खो रंग-बरंगे फुल्लें दियां ब्हारांहर ब्हार च पक्खरू उडदे कन्नै कूंज डुआरांघाऽ हरे ते पत्तर सैल्ले लभदे सारे पास्सैदिनें-दपैह्‌रीं बद्दल दौड़न न्हेरा होंदा...

ओह् गीत कु’त्थें ऐ

0
ओह् गीत कतांह् ते कु’त्थें ऐजो मेरे मनै ध्याया ऐमेरी हांबा शा दूर कुतैकुदरत ने जुगें शा गाया ऐ ।. उसदे सुर अंदर गूंजदे नहर...

आमद

0
तेरी आमद शाकिश पल पैह्‌लेंपीते कौड़े घुट्टवेदन भरोचेसुनेआ तेरा गुज्झा करलद्दतेरी चुप्पी चजरे पीड़ें दे प्हाड़रूं-रूं च तेरे छंदेतुगी लीकने देजिंदु दे काकला पभावें दे...

भुआड़ा

0
लोड़ नेईं ऐमांगवें कक्खें दीमीं भुआड़ें ताईंकी जेकिश कक्खमें सांभी रक्खे दे नअगड़ताईं भौ सांभना औंदा ऐजे मींतां औंदे न कक्ख लाने बीफेरना सुब्बा बीभुल्लेआ...

गज़ल

मजबूर

0
खुद-मुख्तेआर कोई बेशक जरूर ऐसमें कन्नै चलने गी माह्‌नू मजबूर ऐ । समें गी ते आदमी निं कदें छली सकेआअक्ख दस्सी इसगी निं कोई चली...

संदेसा

0
सूरज दी रश्में गी घर परतोने दा संदेसा आयादिना दे गोरे शैल मुंहै पर स’ञै ने परदा सरकायासफर मेरा मुक्कने पर आयामन घबराया अज्ज बडलै,...

सुखराम ‘दुखी’

0
जदू दा शायर बनेआ ऐ सुखरामहोई गेआ ऐ दुखी।बधाई लेई दाढ़ीसिक्खी लेई शराबशायर होने लेई एह् जरूरी हा जनाबसिरगिटै दे लम्मे-लम्मे कश लाईमुंहां चा...
234,544FansLike
68,556FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Featured

Most Popular

सूचना-क्रांति

0
"21मीं सदीसूचना-क्रांति दी "दम भरी -भरीते गला फाड़ी -फाड़ीकेह् किशनिं आखेआ हा तूं बो अज्जकेईं म्हीनें शातेरा सूचना-तंत्रपेदा ऐ मोए दा कोईलाज बी नेईं करदाकी जेआखदे...

ग़ज़ल

छिंझां

Latest reviews

सुहागरात

0
बसैंत चाननी, नायिका पद्‌मनी बनियै अज्ज पसोऐसोलां कलां संपूर्ण नायक जि’यां चन्न बझोऐ। हिरख दौनें गी करदे दिक्खी रात गेई शर्माईअक्ख निं पुट्टन तारें उप्पर...

Ram Nath Shastri: A Beacon of Dogri

0
Prof. Ram Nath Shastri, the doyen of Dogri, was born on 15th April, 1914 and died on 8th March2009. Every human being, however ordinary...

Dogri Language: Challenges & Opportunities

4
Dogri was included in the 8th Schedule of Indian constitution on the historic day of 22nd December 2003. This was quite a satisfying occasion...

More News